Breaking News
recent

Header Ads

ad

:: Strategy of AKTU for semester copies and result from this session ::

- To avoid fraudulent in examination, every page of answer sheet will have bar-code on it.
- Semester copies will be scanned for immediate tracking of each page so that result should come on time.
- Such type of copies will be used from AKTU Odd Semester Examination December 2016.

Datesheet of Odd Semester Examination 2016-17 >> Click Here

Centre List of Odd Semester Examination 2016-17 >> Click Here


#Inext_MEERUT । डॉ। एपीजे अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी की परीक्षाओं में अब किसी भी तरह का फर्जीवाड़ा नहीं हो सकेगा। यूनिवर्सिटी इस बार से एग्जाम में उपयोग होने वाली कॉपियों के हर पेज पर बार कोड की व्यवस्था करेगी। गौरतलब है कि इससे पहले यूनिवर्सिटी के पास कॉपियों में होने वाली गड़बडि़यों को लेकर एकेटीयू के पास शिकायतें आई थी। इसलिए यूनिवर्सिटी ने कॉपियों पर बार कोड का खास फैसला लिया है।ऐसे में अगर कॉपी से कोई पेज हटाया या जोड़ा जाएगा तो उसे तुरंत टै्रक कर लिया जाएगा।

कई बैठकों के बाद फैसला
यूनिवर्सिटी के पास अभी कुछ समय पहले ही कॉलेजों द्वारा ठेके पर कॉपियां लिखवाने की शिकायतें पहुंची थी।जिनमें मेरठ, लखनऊ, सहित विभिन्न जगह के कॉलेजों के बारे में शिकायतें पहुंची थी।जिसके बाद से यूनिवर्सिटी के वित्तीय अधिकारी ने तीन एकेडमिक बैठक व अन्य बैठकें की।इसके बाद अभी हाल फिलहाल में सोमवार को हुई बैठक में वित्तीय अधिकारी ने कॉपियों पर बारकोड के फैसले को सार्वजनिक किया है।वित्तीय अधिकारी भानुप्रकाश ने बताया कि कॉपी के फ्रंट पेज से लेकर अंदर तक के पेजों पर बारकोड होगा।इससे पहले कॉपियों के पहले पन्ने पर ही बारकोड की व्यवस्था थी।

होती थी धांधली
पहले पेज पर ही बारकोड होने से कई बार धांधली के मामले आते थे।जिससे लोग कॉपियों को ठेके पर लेकर लिखते थे।वही अंदर के पेज तक बदल देते थे।नई कॉपियों के लिए टेंडर भी मांगे जा चुके हैं।नए आवेदन में यह पूरी तरह स्पष्ट कर दिया गया है कि कॉपी के हर पन्ने पर बारकोड होना चाहिए।

नई कॉपियों का प्रयोग
इस बार दिसम्बर में होने वाली परीक्षाओं में नई कॉपियों का ही प्रयोग किया जाएगा। इसके लिए 25 लाख कॉपियां मंगाई जाएगी।

आईनेक्स्ट ने उठाया था मुद्दा
एकेटीयू की परीक्षाओं में होने वाली धांधली के मुद्दे को सबसे पहले आईनेक्स्ट ने उठाया था।परीक्षाओं में शिक्षा माफिया द्वारा ठेके पर कॉपी चेक करने के मामले की खबर को प्रकाशित किया था।जिसको यूनिवर्सिटी ने गंभीरता से लिया था.

समय से आएगा रिजल्ट
इस व्यवस्था के लागू होने से समय से रिजल्ट जारी किए जा सकेंगे।मैनुअली कॉपियों के मूल्यांकन में काफी समय लगताहै। इस कारण रिजल्ट में देरी होती थी. अब कॉपियों पर बारकोड से समय भी कम लगेगा।

स्टूडेंट को भी सहूलियत
इस व्यवस्था के बाद अगर किसी स्टूडेंट को मूल्यांकन में कोई आपत्ति होगी तो उसकी कॉपी तत्काल निकलवाई जा सकेगी। मैनुअली लाखों की कॉपियों में से एक की कॉपी निकालने में समय लगता है।

कम्प्यूटर से चेक होंगी कॉपियां
यूनिवर्सिटी में इस बार पूरी तरह से डिजिटल इवेल्यूएशन की प्रक्रिया लागू हो रही है।स्टूडेंट्स की कॉपियां स्कैन कर कम्प्यूटर पर अपलोड कर दिया जाएगा। इन कॉपियों को परीक्षक चेक कर नम्बर डिजिटली भेज देंगे।इसका पूरा एक अलगसॉफ्टवेयर है। एकेटीयू की कॉपियों में बारकोड लगेगा। ये बहुत ही अच्छी बात है, इससेकॉपियोंमेंकिसीतरहकीघपलेबाजी नही हो सकेगी।बारकोड की सुविधा से परीक्षा में पारदर्शिता के ज्यादा चांस रहते हैं।
डॉ।सोहनगर्ग,डायरेक्टर, सर छोटू राम यूनिवर्सिटी,

No comments:

Powered by Blogger.